ट्रेंडिंग

Indoor Solar Cooking System : नए साल के अवसर पर गैस भरवाने की झंझट खत्म, इंडियन ऑयल दे रहा है फ्री में सोलर चूल्हा ऐसे करें आवेदन

Indoor Solar Cooking System राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) कालीकट ने रसोई गैस की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए एक शानदार तरीका खोजा है। संस्थान ने ऐसा चूल्हा बनाया है, जो सौर ऊर्जा से तो चलेगा ही, साथ ही आपके बजट में भी आएगा और यह सोलर पैनल स्टोव रसोई गैस की बढ़ती कीमतों से भी राहत दिलाने वाला है। देश में एलपीजी की बढ़ती कीमतों के बीच राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) कालीकट ने सौर ऊर्जा से चलने वाला स्टोव विकसित किया है, एनआईटी कालीकट (एनआईटीसी) के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के शोधकर्ताओं का कहना है कि इस सौर स्टोव की लागत बहुत कम है और एलपीजी स्टोव की तुलना में इसका उपयोग करना भी बहुत आसान है.

इंडियन ऑयल सोलर स्टोव 2023 योजना का ऑनलाईन

आवेदन करने के लिए यहा क्लिक करे

सस्ते दामों पर बाजार में उपलब्ध होंगे स्मार्ट सोलर स्टोव

Indoor Solar Cooking System रिपोर्ट के मुताबिक, सोलर स्टोव बनाने वाली टीम का नेतृत्व प्रोफेसर एस.एन. वह एनआईटी कालीकट के अध्यक्ष हैं। आपको बता दें कि पहले इसका नेतृत्व प्रो एस अशोक कर रहे थे। संस्थान की औद्योगिक ऊर्जा अनुसंधान प्रयोगशालाओं में ‘स्मार्ट सोलर स्टोव’ का परीक्षण किया गया है।

कुछ घरों और सड़क विक्रेताओं द्वारा वास्तविक सेटिंग्स में और उपयोग के लिए उपकरणों का परीक्षण करने के लिए सौर स्टोव प्रदान किए गए थे। डेवलपर्स का कहना है कि परिणाम दिखाते हैं कि यह दोनों सेटिंग्स में बेहतर काम करता है। उन्हें विश्वास है कि ‘स्मार्ट सोलर स्टोव बाजार में किफायती दामों पर उपलब्ध कराए जा सकते हैं।

सोनालिका का इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर हुआ लॉन्च, अब नहीं रहेगी डीजल की जरूरत,

जानिए इसकी कीमत |

घर का अंधेरा भी दूर हो जाएगा।

स्टोव दो मॉडलों में पेश किया जाता है, एकल और डबल स्टोव उत्पादों को बिना किसी बिजली की आपूर्ति के सीधे सौर ऊर्जा से उपयोग किया जा सकता है। और रिपोर्ट के अनुसार, यह घर पर खाना पकाने के लिए उपयुक्त है। यह मॉडल उन लोगों के लिए भी उपयुक्त है, Indoor Solar Cooking System

जो सड़क के किनारे भोजन पकाते हैं और बेचते हैं। इस चूल्हे के सोलर पैनल सड़क किनारे प्रतिष्ठानों की छत पर लगाए जा सकते हैं। इस प्रोडक्ट की खास बात यह है कि यह घर के अंधेरे को भी दूर करेगा,

IOCL Solar Cooking Stove इसमें लगी एलईडी घर को रोशन करेगी। सोलर पैनल वाले सिंगल स्टोव की कीमत करीब 10 हजार रुपये है, जबकि डबल स्टोव 15 हजार रुपये में मिलने वाला है। दूसरे मॉडल में कंट्रोल पैनल के साथ बैटरी भी मिलती है। यानी यह सूरज की किरणों से चार्ज हो जाएगा और बाद में आप इसे कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको बता दें कि बैटरी वाले स्टोव की कीमत करीब 15 हजार है।

डेयरी एवं पशुपालन योजना धंधों के लिए 90 प्रतिशत सबसिडी आवेदन शुरु,

यहा करें आवेदन

सालाना खर्च में करीब 12,000 रुपये की बचत होगी।

solar cooking stove indian oil स्टोव डेवलपर्स का कहना है कि इस स्टोव से प्रदूषण का खतरा भी काफी कम है। इससे न तो धुआं निकलता है और न ही कार्बन मोनोऑक्साइड निकलता है, जो मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इस स्मार्ट सोलर स्टोव का उपयोग करके, एक परिवार अपने वार्षिक खर्चों में लगभग 12,000 रुपये बचा सकता है। इस स्टोव का टच पैड बिल्कुल इंडक्शन कुकर की तरह है, लेकिन इसमें रेडिएशन का खतरा नहीं है,

इसलिए, यह बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों के लिए भी सुरक्षित है। केंद्र सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग ने इस सौर चूल्हे को विकसित करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की है। डेवलपर्स का कहना है कि इस सोलर स्टोव की तकनीक को बड़े पैमाने पर बनाने के लिए कई कंपनियों ने एनआईटीसी से संपर्क भी स्थापित किया है। Indoor Solar Cooking System

बँक ऑफ बडोदा 50 हजार लोन का ऑनलाइन आवेदन करने के लिए

ऑनलाइन आवेदन करने के लिए यहां क्लिंक करें

महिलाओं को मिलेगा फ्री सोलर चूल्हा, यहाँ से करे आवेदन

देश की सबसे बड़ी कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन ने बुधवार को स्टेशनरी, रिचार्जेबल और इनडोर कुकिंग सोलर स्टोव लॉन्च किया, जिससे आप सौर ऊर्जा का इस्तेमाल कर हमेशा खाना बना सकते हैं। आपको बस एक बार यह स्टोव खरीदना होगा और आपको इसका मेंटेनेंस चार्ज भी नहीं देना होगा। IOCL Solar Cooking Stove

इस सोलर स्टोव से महिलाएं बिना किसी खराबी के 10 साल तक इसका इस्तेमाल कर सकती हैं। कंपनी दो से तीन महीने के भीतर इन स्टोव को बाजार में लाएगी। इसके अलावा बाजार में कंपनी द्वारा बनाए गए ऐसे सोलर स्टोव की कीमत 15,000 से 20,000 रुपये तक बताई जा रही है।

5 लाख से ज्यादे किसानों को कर्ज हुआ माफ,

यहां चेक करें अपना नाम।

चूल्हे को धूप में रखने की जरूरत नहीं होगी?

आईओसी के निदेशक (आरएंडडी) एसएसवी रामकुमार ने बताया है कि चूल्हा सोलर कुकर से अलग है क्योंकि इसे धूप में नहीं रखना पड़ता है। आपको बस इतना करना है कि सौर ऊर्जा के लिए बाहर या छत पर एक केबल लगाएं ताकि आपका स्टोव पीवी पैनलों के माध्यम से सौर ऊर्जा को आकर्षित कर सके। यह स्टोव कई अलग-अलग कार्य करता है जैसे कि उबालना, भाप लेना, तलना और फ्लैटब्रेड बनाना। Indoor Solar Cooking System

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button